अजीनोमोटो के फायदे व उसके नुकसान क्या है | What is Ajinomoto and Side Effects in Hindi

By | February 12, 2021
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अजीनोमोटो क्या होता है What is Ajinomoto in Hindi

अजीनोमोटो एक रसायनिक खाद्य पदार्थ है जो विभिन्न प्रकार के फास्ट फूड में स्वाद बढ़ाने वाले मसाले के रूप में प्रयोग किया जाता है । अजीनोमोटो का व्यापारिक नाम मोनोसोडियम ग्लूटामैट होता है जिसे संक्षेप में MSG के नाम से भी जाना जाता है ।

अजीनोमोटो बनाने वाली कंपनी का मुख्य कार्यालय चीन के टोक्यो शहर में स्थित है, जहां इस रसायनिक पदार्थ को बनाया जाता है । अजीनोमोटो की खोज 1909 में की गई थी तथा तभी से यह विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में स्वाद बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाता है ।

अजीनोमोटो का व्यापार विश्व के 26 बड़े देशों में फैला हुआ है जिनमें भारत भी शामिल है । अजीनोमोटो से होने वाले स्वास्थ्य नुकसान के कारण विश्व के कई देशों ने इस रसायनिक पदार्थ को प्रतिबंधित किया हुआ है ।

लेकिन हम आपको बता दें कि अजीनोमोटो का व्यापार पूरे विश्व में इतना अधिक फैल चुका है कि 2013-14 के वित्तीय वर्ष में इस रसायनिक पदार्थ से होने वाला वार्षिक राजस्व लगभग 12 अरब अमेरिकी डॉलर था । तो आप समझ सकते हैं कि इस रसायनिक पदार्थ की इन 26 देशों में कितनी अधिक खपत होती है ।

अजीनोमोटो का उपयोग Ajinomoto Uses in Hindi

अजीनोमोटो का इस्तेमाल ज्यादातर चाइनीस फास्ट फूड जैसे चाऊमीन, मोमोज इत्यादि में होता है । इसके अलावा अन्य फास्ट फूड जैसे स्प्रिंग रोल, नूडल्स आदि में भी इसका प्रयोग किया जाता है । आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि बाजार में मिलने वाले खाद्य पदार्थ जैसे चिप्स, पिज़्ज़ा तथा मैगी में भी अजीनोमोटो मौजूद होता है, जो इन खाद्य पदार्थों के स्वाद को काफी हद तक बढ़ा देता है ।

अजीनोमोटो का इतिहास History of Ajinomoto in Hindi

अजीनोमोटो को जापान के जैव रसायन शास्त्री किकुनेई इकेडा के द्वारा सन 1909 में खोजा गया था । इनके द्वारा जब इस रसायन को चखकर देखा गया तो उन्हें इसका स्वाद थोड़ा नमकीन लगा जिसे उन्होंने अपनी भाषा में मामी कहा ।

मामी का अर्थ होता है बहुत ही अच्छा स्वाद । इसके बाद इन्होंने इस रसायन को विभिन्न खाद्य पदार्थों जैसे जापानी सूप व सलाद इत्यादि में डालना शुरू कर दिया जो इन सभी खाद्य पदार्थों के स्वाद को बहुत अधिक बढ़ा देता था । अजीनोमोटो देखने में सफेद रंग का होता है तथा चमकीले छोटे क्रिस्टल जैसा होता है । इसमें प्राकृतिक रूप से अमीनो एसिड पाया जाता है ।

अजीनोमोटो की लत Addiction of Ajinomoto in Hindi

अजीनोमोटो सन 1909 के बाद धीरे धीरे व्यापारिक तौर पर बाजार में आना शुरू हुआ और देखते देखते दुनिया के कई देशों में मिलने लगा । लेकिन कई देशों ने इसके खतरनाक हानिकारक प्रभाव के कारण इसे प्रतिबंधित कर दिया ।

आज 26 से भी अधिक देशों में फास्ट फूड तथा विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में इसका उपयोग स्वाद बढ़ाने वाले मसाले के रूप में किया जाता है ।

अजीनोमोटो का उपयोग मुख्य रूप से चाइनीस व्यंजनों तथा विभिन्न प्रकार के फास्ट फूड में किया जाता है ।

अजीनोमोटो से होने वाले फायदे Ajinomoto Uses in Hindi

अजीनोमोटो में ग्लूटामैट नामक रसायन मौजूद होता है । यही रसायन टमाटर, समुद्री मछलियों, पनीर तथा मशरूम में भी पाया जाता है । इन सभी पदार्थों में पाए जाने वाला ग्लूटामैट हमारे शरीर के लिए लाभदायक होता है तथा इसका सेवन करने से कोई नुकसान नहीं होता है ।

इसी आधार पर अजीनोमोटो को भी हमारे शरीर के लिए लाभदायक माना जाता है क्योंकि यह हमारे शरीर में ग्लूटामैट की कमी को दूर करता है ।

अजीनोमोटो से होने वाले नुकसान Harmful Effects of Ajinomoto for Health

आज से कई साल पहले तक अजीनोमोटो यानी एमएसजी का उपयोग केवल जापान एवं चीन में ही हुआ करता था तथा यह ज्यादातर चाइनीस व्यंजनों में ही प्रयोग किया जाता था ।

लेकिन धीरे-धीरे यह भारत तथा अन्य देशों में भी आ गया तथा टेस्ट बढ़ाने के लिए लगातार प्रयोग किया जाने लगा । अजीनोमोटो स्वाद को बढ़ाता है लेकिन इसके अन्य कई नुकसान भी हैं जो कि इस प्रकार हैं ।

  • यदि कोई व्यक्ति एक बार अजीनोमोटो युक्त फास्ट फूड या किसी अन्य व्यंजन का सेवन करें तो स्वाद के कारण वह व्यक्ति उसको बार-बार खाने की इच्छा प्रकट करेगा तथा उसे उसकी लत लग जाएगी । यह एक प्रकार से नशे की लत जैसा ही होता है ।
  • अजीनोमोटो को मेडिकल साइंस में स्लो प्वाइजन यानी धीमा हत्यारा भी कहा जाता है क्योंकि इसका सेवन करने से हमारे शरीर में विभिन्न प्रकार की बीमारियां पैदा हो जाती हैं जो कि इस प्रकार हैं ।

अजीनोमोटो से होने वाली बीमारियां Disease Caused by Ajinomoto in Hindi

अजीनोमोटो का सेवन करने से निम्न बीमारियां होने की प्रबल संभावना होती है ।

आंखों के लिए नुकसानदायक अजीनोमोटो का लगातार सेवन करने से है आंखों की रेटिना पर इसका घातक प्रभाव पड़ता है जिससे आंखें कमजोर हो सकती हैं । खासकर बच्चों की आंखों के लिए यह ज्यादा नुकसानदायक होता है ।

अजीनोमोटो मस्तिष्क के न्यूरॉन्स पर नकारात्मक प्रभाव डालता है जिससे व्यक्ति की सोचने समझने की क्षमता प्रभावित होती है ।

अधिक मात्रा में अजीनोमोटो का सेवन करने से शरीर में सोडियम की मात्रा बढ़ सकती है जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है तथा हाथों पैरों में सूजन आने की संभावना बढ़ सकती है ।

अजीनोमोटो युक्त खाद्य पदार्थ गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत अधिक नुकसानदायक होते हैं, क्योंकि इसका नकारात्मक प्रभाव गर्भ में पल रहे शिशु के स्वास्थ्य पर पड़ता है ।

अजीनोमोटो युक्त खाद्य पदार्थों का लगातार सेवन करने से माइग्रेन की समस्या भी पैदा हो सकती है जोकि एक गंभीर समस्या है ।

अजीनोमोटो का सेवन करने से हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती है जैसे कि अचानक सीने में दर्द होना, धड़कन का कम या तेज हो जाना तथा हृदय की मांसपेशियों में खिंचाव होना इत्यादि ।

अधिक मात्रा में अजीनोमोटो का सेवन करने से विभिन्न प्रकार के तंत्रिका तंत्र से संबंधित रोग हो सकते हैं जैसे कि अल्जाइमर, पार्किंसंस, मल्टीपल स्क्लेरोसिस इत्यादि । यह तंत्रिका तंत्र में असंतुलन पैदा कर सकता है जिससे विभिन्न प्रकार की समस्याएं पैदा हो सकती हैं ।

अजीनोमोटो का सेवन करने से हमारे शरीर में मौजूद लेप्टिन नामक हारमोन प्रभावित हो सकता है । यह हार्मोन भूख के संदेश को मस्तिष्क तक पहुंचता है । इस हार्मोन के प्रभावित होने पर व्यक्ति को बार बार भूख का एहसास होगा जिससे बार-बार कुछ खाने की इच्छा होगी तथा मोटापा बढ़ने की संभावना बढ़ सकती हैं ।

अजीनोमोटो का हानिकारक प्रभाव सबसे अधिक बच्चों पर होता है । 13 वर्ष की उम्र से छोटे बच्चों को अजीनोमोटो से युक्त खाद्य पदार्थों को बिल्कुल भी सेवन नहीं करना चाहिए । यह उनके स्वास्थ्य के लिए घातक सिद्ध हो सकता है ।

तो इस प्रकार हम कह सकते हैं कि अजीनोमोटो स्वाद तो बढ़ाता है लेकिन वहीं दूसरी ओर हमारे स्वास्थ्य पर घातक प्रभाव डालता है । इसलिए अजीनोमोटो युक्त खाद्य पदार्थों का बहिष्कार करें तथा अपने तथा अपने परिवार को स्वस्थ एवं सुरक्षित रखें । इससे संबंधित अपने विचार कमेंट के मध्य में जरूर बताएं ।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *