मधुबाला एक्ट्रेस का जीवन परिचय (जीवनी), मृत्यु, पति, बच्चे, फॅमिली फिल्मे, हाइट Madhubala Actress Biography in Hindi, Height , Death, Age, Family & Films

By | June 24, 2021
madhubala biography in hindi
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मधुबाला एक्ट्रेस का जीवन परिचय (जीवनी), मृत्यु, पति, बच्चे, फॅमिली फिल्मे, हाइट Madhubala Actress Biography in Hindi, Height , Death, Age, Family & Films

भारतीय फिल्म जगत में वैसे तो बहुत सी अभिनेत्रियों के नाम जाने जाते हैं लेकिन इन सभी नामों में एक ऐसा नाम है जो लाखों-करोड़ों लोगों के दिलों पर राज करता है । वह नाम है मधुबाला का । जी हां दोस्तों मधुबाला 1950 के दशक की एक मशहूर अभिनेत्री तथा अदाकारा रही है, जिन्होंने अपने अभिनय के दम पर भारतीय फिल्म जगत में अपनी अमिट छाप छाप छोड़ी है । आज इस लेख में हम मधुबाला का जीवन परिचय (Madhubala Biography in Hindi) के बारे में बात करेंगे ।

मधुबाला का प्रारंभिक जीवन Early Life of Madhubala in hindi

मधुबाला का जन्म 14 फरवरी 1933 को दिल्ली में हुआ था लेकिन इनका परिवार मूल रूप से पाकिस्तान का रहने वाला था । उनके माता-पिता पाकिस्तान के खेबर पख्तूनख्वा के रहने वाले थे तथा मधुबाला के पिता वहीं पर एक तंबाकू की फैक्ट्री में काम किया करते थे । जिससे इनके घर का गुजर बसर चला करता था ।

इनके घर की माली हालत काफी खस्ता थी तथा यह लोग काफी गरीबी में अपना दिन गुजार रहे थे । मधुबाला के पिता का नाम अत्ताउल्लाह खान तथा माता का नाम आयशा बेगम था । मधुबाला को मिलाकर कुल 11 भाई बहन थे जिनमें मधुबाला पांचवें नंबर पर थी । मधुबाला का जन्म पाकिस्तान में नहीं हुआ था । बंटवारे से पहले इनके पिता रोजगार की तलाश में दिल्ली आ गए थे तथा दिल्ली में ही मधुबाला का जन्म हुआ था ।

कुछ समय दिल्ली में रहने के बाद इनके माता-पिता मुंबई आ गए तथा काम की तलाश में जुट गए । वहा इन्होंने काफी संघर्ष किया तथा काफी गरीबी में दिन गुजारे अपने सभी भाई बहनों में मधुबाला बेहद खूबसूरत थी तथा उस जमाने में भारतीय फिल्म जगत में फिल्मों में आसानी से काम मिल जाया करता था ।

उस समय बॉलीवुड में राज कपूर, देवानंद, दिलीप कुमार जैसे महान हस्तियों का सिक्का चला करता था तथा फिल्मों में भी आसानी से काम मिल जाता था । यह बात सन 1942 से 1945 के बीच की है । अपने परिवार की खस्ता हालत को सुधारने के लिए मधुबाला ने फिल्मों में काम करने की सोची ।

इनके माता-पिता ने भी इनको फिल्मों में काम करने की इजाजत दे दी । जिस समय मधुबाला फिल्मों में काम करने के लिए संघर्ष कर रही थी उसी दौरान सन 1944 में एक दुर्घटना में मधुबाला की तीन बहने और दो भाई मारे गए । इस हादसे का मधुबाला के मन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ा तथा इसका सीधा असर उनकी एक्टिंग पर भी पड़ा । इसके बाद मधुबाला ने भारतीय फिल्म जगत में अपनी किस्मत आजमाई तथा उन्हें सफलता भी मिली ।

मधुबाला की फ़िल्मी शुरुआत Madhubala Career Starting in Hindi

सन 1950 के दशक में भारतीय फिल्म जगत में देविका रानी, गीता बाली, शमशाद बेगम पहले से ही मशहूर कलाकार थी तथा उनके नाम से ही फिल्में चला करती थी । जब देविका रानी ने मधुबाला की एक्टिंग को देखा तो वह उनसे बहुत अधिक प्रभावित हुई तथा उन्होंने मधुबाला को उनका नाम मधुबाला रखने को कहा ।

क्योंकि मधुबाला का असली नाम मुमताज दिल्ली था तथा उस समय हिंदुस्तान में लोग मुसलमानों से नफरत करते थे तथा उनकी फिल्में देखना पसंद नहीं करते थे । इसलिए देविका रानी ने मधुबाला का नाम बदलने के लिए उन्हें प्रेरित किया जिसे मधुबाला ने तुरंत स्वीकार कर लिया । इसके बाद मधुबाला की राज कपूर, देवानंद, दिलीप कुमार के साथ एक से बढ़कर एक सभी फिल्में सुपर डुपर हिट रही । मधुबाला की जोड़ी देवानंद तथा किशोर कुमार के साथ खूब जचा करती थी । इन दोनों कलाकारों के साथ मधुबाला ने बहुत सारी हिट फिल्में दी ।

वैसे तो मधुबाला की सारी फिल्में सुपरहिट रही लेकिन इनको सबसे पहली सफलता बॉम्बे टॉकीज की फिल्म महल से मिली । इस फिल्म में इनके सह कलाकार किशोर कुमार के बड़े भाई अशोक कुमार थे । इस फिल्म के साथ एक खास बात भी जुड़ी हुई है । दरअसल इस फिल्म में पहले सुरैया को चुना गया था लेकिन बाद में इस फिल्म के डायरेक्टर कमाल अमरोही ने मधुबाला को चुना ।

क्योंकि मधुबाला एक नया चेहरा थी तथा उनके चेहरे में एक कशिश थी जिसे लोग देखना पसंद करते थे । इस फिल्म के बाद मधुबाला ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और एक से बढ़कर एक हिट फिल्में देने शुरू कर दी ।

मधुबाला का कैरियर Madhubala Career in Hindi

मधुबाला ने अपने कैरियर में बहुत ही कम उम्र में बहुत ज्यादा ऊंचाइयों को छुआ । मधुबाला एकमात्र ऐसी एक्ट्रेस थी जिन्होंने उस समय के लगभग लगभग सभी फिल्म कलाकारों जैसे राज कपूर, देवानंद, दिलीप कुमार, गुरुदत्त, प्रदीप कुमार, सुनील दत्त, शम्मी कपूर, रहमान, राजकुमार, अशोक कुमार के साथ काम किया ।

इन सभी कलाकारों के साथ मधुबाला ने एक से बढ़कर एक फिल्म की । मधुबाला की गाने आज भी लोग गुनगुनाते हैं । मधुबाला के कुछ गाने इस तरह हैं । एक परदेसी मेरा दिल ले गया मोटी मोटी अंखियों में आंसू दे गया, आईए मेहरबान बैठिए जाने जा, अच्छा जी मैं हारी चलो मान जाओ । इस तरह के बहुत से गाने जो आज भी लोगों के दिलों में बसे हुए हैं । उस समय मधुबाला के अलावा और भी बहुत सारी अभिनेत्रियां थी जिनमें गीता बाली, सुरैया, शमशाद बेगम तथा निम्मी का नाम आता है ।

यह सभी कलाकार मधुबाला के अभिनय से बहुत अधिक प्रभावित थी । मधुबाला ने इन सब को पछाड़कर बहुत पीछे छोड़ दिया था । मधुबाला ने कई निर्देशकों के साथ काम किया जिनमें कमाल अमरोही गुरुदत्त देवानंद शामिल थे ।

सन 1950 का समय मधुबाला के जीवन का गोल्डन पीरियड था क्योंकि इस समय मधुबाला ने एक से बढ़कर एक सुपरहिट फिल्में दी । इन फिल्मों में श्री फरहाद, आज हमारा है जैसी फ़िल्में शामिल थी ।

देवानंद के साथ फिल्म काला पानी उस समय की सुपरहिट फिल्म थी जिसे कई अवार्ड मिले थे तथा इन दोनों की जोड़ी को उस समय के लोगों ने बहुत अधिक प्यार किया था । गुरु दत्त की फिल्म हावड़ा ब्रिज भी मधुबाला के कैरियर की बेहतरीन फिल्मों में से एक थी । इस फिल्म में मधुबाला का गाना आईए मेहरबान आज भी लोग नहीं भूले हैं तथा इस फिल्म को एंग्लो इंडियन स्टाइल में दर्शाया गया था ।

मधुबाला ने अपने फिल्मी कैरियर में एक से बढ़कर एक सुपरहिट फिल्में दी तथा लोगो के दिलों पर राज किया । मधुबाला को लोग आज भी प्यार करते हैं उनके गानों को सुनते हैं और एक दूसरी दुनिया में खो जाते हैं । मधुबाला की जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है ।

मधुबाला की प्रेम कहानियां Madhubala Affairs in Hindi

मधुबाला जितनी खूबसूरत अदाकारा थी उनका दिल भी उतना ही खूबसूरत था । मधुबाला के जीवन काल में बहुत से कलाकार आई जिन्होंने मधुबाला से मोहब्बत की ओर कुछ ऐसे कलाकार थे जिनसे मधुबाला ने मोहब्बत की ।

मधुबाला को सबसे पहली बार मोहब्बत दिलीप कुमार से हुई था । यह बात सन 1944 की है जब यह दोनों कलाकार फिल्म ज्वार भाटा के सेट पर एक दूसरे से मिले थे । इसके बाद इन्होंने एक फिल्म और करी जिसका नाम था तराना ।

धीरे धीरे यह दोनों एक दूसरे के साथ चले गए तथा दोनों की मोहब्बत परवान चढ़ती चली गई । लेकिन यह रिश्ता ज्यादा लंबे समय तक नहीं चल सका क्योंकि मधुबाला के पिता को यह रिश्ता मंजूर नहीं था ।

इसके बाद मधुबाला के जीवन में देवानंद आए तथा इन दोनों के अफेयर की चर्चा भी उस समय के अखबारों में काफी सुर्खियों में रहा करती थी । लेकिन बाद में मधुबाला ने इसे केवल अफवाह करार दिया । मधुबाला का नाम प्रदीप कुमार के साथ भी जोड़ा जाता है लेकिन इसमें कोई सच्चाई नहीं थी ।

मधुबाला की शादी Madhubala Marriage in Hindi

आखिर में मधुबाला ने और किशोर कुमार का नाम सुर्खियों में आया तथा इन दोनों के बीच मोहब्बत परवान चढ़ने लगी । यह दोनों एक दूसरे से मोहब्बत करते थे किशोर कुमार मधुबाला से शादी करना चाहते थे ।

लेकिन मधुबाला के माता पिता एक हिंदू के साथ शादी करने के लिए राजी नहीं थे । लेकिन किशोर कुमार भी मधुबाला से शादी करने की जिद कर चुके थे और उन्होंने सन 1960 में अपना धर्म बदल कर इस्लाम धर्म कबूल कर लिया तथा अपना नाम करीम अब्दुल रख लिया । इसके बाद इन दोनों की शादी हो गई ।

शादी के कुछ समय बाद ही मधुबाला बीमार रहने लगी । किशोर कुमार ने मधुबाला को शहर के बड़े से बड़े डॉक्टर को दिखाया लेकिन कोई डॉक्टर समझ नहीं पाया क्या बीमारी है ।

इसके बाद किशोर कुमार मधुबाला को लंदन ले गए । वहां उनका इलाज कराया गया । लंदन में डॉक्टर ने मधुबाला का चेकअप किया तथा बताया कि मधुबाला के दिल में छेद है जिस कारण मधुबाला के शरीर में खून की मात्रा लगातार बढ़ती जा रही है और मधुबाला 2 साल से ज्यादा नहीं जी सकती । यह सुनकर किशोर कुमार को बहुत धक्का लगा ।

किशोर कुमार ने मधुबाला के अंतिम समय में मधुबाला की खूब सेवा की । लेकिन भगवान को मधुबाला का जीवन मंजूर नहीं था और 23 फरवरी 1969 को अपना 36 वा जन्मदिन बनाने के 9 दिन के बाद मधुबाला की मृत्यु हो गई । इस तरह यह मशहूर अदाकारा हमेशा हमेशा के लिए इस दुनिया को अलविदा कह कर चली गई ।

मधुबाला की फिल्म मधुबाला ने बहुत कम उम्र में बहुत सारी फिल्में की उनकी फिल्मों की लिस्ट नीचे दी गई है ।

बसंत 1942
मुमताज़ महल 1944
धन्ना भगत 1945
पुजारी 1946
फुलवारी 1946
राजपूतानी 1946
नील कमल 1947
चित्तर विजय 1947
मेरे भगवन 1947
ख़ूबसूरत दुनिया 1947
दिल की रानी 1947
पराई आग 1948
लाल दुपट्टा 1948
देश सेवा 1948
अमर प्रेम 1948
सिपहिया 1949
सिंगार 1949
पारस 1949
नेकी और बदी 1949
महल 1949
इम्तिहान 1949
दुलारी 1949
दौलत 1949
अपराधी 1949
परदेस 1950
निशाना 1950
निराला 1950
मधुबाला 1950
हँसते आंसू 1950
बेक़सूर 1950
तराना 1951
सैयां 1951
नाजनीन 1951
नादान 1951
खज़ाना 1951
बादल 1951
आराम 1951
साकी 1952
देश्भक्तन 1952
संगदिल 1952
रेल का डिब्बा 1953
अरमान 1953
बहुत हुए दिन 1954
अमर 1954
तीरंदाज़ 1955
नक़ाब 1955
नाता 1955
मि और मिस 55 1955
शीरीं फरहाद 1956
राज हत 1956
ढाके की मलमल 1956
यहूदी की लड़की 1957
गेटवे ऑफ़ इंडिया 1957
एक साल 1957
पुलिस 1958
फागुन 1958
काला पानी 1958
हावड़ा ब्रिज 1958
चलती का नाम गाडी 1958
बागी सिपाही 1958
कल हमारा है 1959
इंसान जाग उठा 1959
दो उस्ताद 1959
महलों के ख्वाब 1960
जाली नोट 1960
बरसात की रात 1960
मुग़ले आज़म 1960
पासपोर्ट 1961
झुमरू 1961
बॉय फ्रेंड 1961
हाफ टिकट 1962
शराबी 1964
ज्वाला 1971


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *